Nigahen Milane Ko Lyrics – Asha Bhosle

Nigahen Milane Ko Lyrics :- Latest Bollywood song Nigahen Milane Ko from movie Dil Hi To Hai.Song sung Asha Bhosle & music given by Roshan.Nigahen Milane Ko Lyrics written by Sahir Ludhianvi & featuring  Raj Kapoor, Nutan, Pran, Nasir Hussain, Leela Chitnis, Agha.This song Published by Saregama India Ltd.

Nigahen Milane Ko Lyrics - Asha Bhosle

Nigahen Milane Ko Song Details:

Song Nigahen Milane Ko
Movie Dil Hi To Hai
Singer Asha Bhosle
Lyrics Sahir Ludhianvi
Music Roshan
Starring Raj Kapoor, Nutan, Pran, Nasir Hussain, Leela Chitnis, Agha
lebel Saregama India Ltd

Raaz ki baat hai mahafil men kahen ya na kahen
Bas gaya hai koi is dil men kahen ya na kahen

Nigaahen milaane ko ji chaahata hai
Dil-0-jaan lutaane ko ji chaahata hai

Wo tohamat jise ishk kahati hai duniya
Wo tohamat uthhaane ko ji chaahata hai

Kisi ke manaane men lajzat wo paai
Ki fir ruthh jaane ko ji chaahata hai

Wo jalawa jo ojhal bhi hai saamane bhi
Wo jalawa churaane ko ji chaahata hai

Jis ghadi meri nigaahon ko teri did hui
Wo ghadi mere lie aish ki tamhid hui
Jab kabhi mainne tera chaand sa chehara dekha
Id ho ya ki n ho, mere lie id hui
Wo jalawa jo ojhal bhi hai saamane bhi
Wo jalawa churaane ko ji chaahata hai

Ni re g
G re g ni re m
M g m ni re g
G re g ni g re, re g, g m, m dh ni
Sa sa ni ni dh dh p p g re
Sa ni dh p m g re
Ni dh p m g re sa ni re g

Mulaakaat ka koi paigaam dije
Ki chhup chhup ke ane ko ji chaahata hai
Aur ake na jaane ko ji chaahata hai

More Lyrics You May Like:  Inaayat Lyrics - Tanzeel Khan

राज़ की बात है महफ़िल में कहें या ना कहें
बस गया है कोई इस दिल में कहें या ना कहें

निगाहें मिलाने को जी चाहता है
दिल-ओ-जान लुटाने को जी चाहता है

वो तोहमत जिसे इश्क कहती है दुनिया
वो तोहमत उठाने को जी चाहता है

किसी के मनाने में लज्ज़त वो पाई
कि फिर रूठ जाने को जी चाहता है

वो जलवा जो ओझल भी है सामने भी
वो जलवा चुराने को जी चाहता है️

जिस घड़ी मेरी निगाहों को तेरी दीद हुई
वो घड़ी मेरे लिए ऐश की तम्हीद हुई
जब कभी मैंने तेरा चाँद सा चेहरा देखा
ईद हो या कि न हो, मेरे लिए ईद हुई
वो जलवा जो ओझल भी है सामने भी
वो जलवा चुराने को जी चाहता है

नी रे ग
ग रे ग नी रे म
म ग म नी रे ग
ग रे ग नी ग रे, रे ग, ग म, म ध नी
सा सा नी नी ध ध प प ग रे
सा नी ध प म ग रे
नी ध प म ग रे सा नी रे ग

मुलाक़ात का कोई पैगाम दीजे
कि छुप छुप के आने को जी चाहता है
और आके ना जाने को जी चाहता है”️

Share on:

Leave a Comment